हिंदी कविता : Rashmirathi : Ramdhari Singh Dinkar : Manoj Bajpeyi in Hindi Studio with Manish Gupta




रामधारी सिंह दिनकर (23 September 1908 – 24 April 1974) स्वतंत्रता पूर्व के विद्रोही कवि के रूप में स्थापित हुए और स्वतंत्रता के बाद राष्ट्रकवि के नाम से जाने जाते रहे। एक ओर उनकी कविताओं में ओज विद्रोह आक्रोश और क्रांति की पुकार है तो दूसरी ओर कोमल शृंगारिक भावनाओं की अभिव्यक्ति है। इन्हीं दो प्रवृत्तियों का चरम उत्कर्ष हमें कुरुक्षेत्र और उर्वशी में मिलता है।

आपको भारत सरकार की उपाधि पद्मविभूषण से अलंकृत किया गया। आपकी पुस्तक संस्कृति के चार अध्याय के लिए आपको साहित्य अकादमी पुरस्कार तथा उर्वशी के लिए भारतीय ज्ञानपीठ पुरस्कर प्रदान किए गए।

Created by : Manish Gupta
© Active Illusions : www.active-illusions.com
Film.Bombay@gmail.com

Show More

Show Less

 

 

Popular Poetry More See All